भगवान विष्णु को समर्पित है उत्तराखंड में उमरा नारायण मंदिर, आदि शंकराचार्य ने करवाया था निर्माण

by Ravinder Singh

उमरा नारायण मंदिर (umra narayan temple) देवों की भूमि उत्तराखंड (uttarakhand) के मुख्य शहर रुद्रप्रयाग (rudraprayag) के ऐतिहासिक और लोकप्रिय धार्मिक स्थलों में से एक है। यह रुद्रप्रयाग से लगभग 6 से 7 किलोमीटर की दूरी पर है। भगवान उमरा नारायण मंदिर (umra narayan temple) को भगवान विष्णु (lord vishnu) का पवित्र निवास माना जाता है। नैसर्गिक जंगलों से घिरा हुआ यह धार्मिक स्थल एक छोटी सी पहाड़ी पर बसा हुआ है। यहां पर एक छोटा सा भूमिगत जल कुंड भी है, जो हमेशा एक अवीरल प्राकृतिक धारा के निर्मल जल से भरा हुआ रहता है। उमरा नारायण मंदिर आने वाले श्रद्धालु इसी जल कुंड में विशुद्धि पाने के बाद मंदिर में भगवान के दर्शन करते हैं।

मंदिर का इतिहास

उमरा नारायण मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। मंदिर को लेकर मान्यता है कि इसका निर्माण आदि शंकराचार्य ने करवाया था। दरअसल जब आदि शंकराचार्य बदरीनाथ धाम जा रहे थे, तब वह अलकनंदा नदी की निकटता में स्थित इस जगह रुके और उन्होंने उमरा नारायण मंदिर का निर्माण करवाया। उमरा नारायण मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं को अलकनंदा नदी की तेज ध्वनी साफ सुनाई देती है। मंदिर की भव्यता और अद्भुत निर्माण शैली श्रद्धालुओं को आकर्षित करती है। यह मंदिर समूह धार्मिक श्रद्धालुओं, शांतिप्रिय लोगों और अध्यात्म के जिग्यासुओं के लिए मनोरम तीर्थ है।

umra narayan temple rudraprayag

Source – Wikipedia

गैरोला कबीले के कुल देवता

उमरा नारायण मंदिर में क्षेत्र के श्रद्धालुओं की गहरी आस्था है। भगवान उमरा नारायण को ग्राम सन्न के गैरोला कबीले का कुल देवता भी माना जाता है। श्रद्धालु अपनी फसल आने के बाद, फसलों का पहला समूह भगवान को अर्पित करते हैं, जिसे आशीर्वाद और समृद्धि का समर्थन माना जाता है। श्रद्धालुओं का विश्वास है कि ऐसा करने से भगवान प्रसन्न होते हैं और उनके जीवन में सम्रद्धि आती है। उमरा नारायण मंदिर, रुद्रप्रयाग के दूसरे प्रसिद्ध कोटेश्वर महादेव मंदिर के नजदीक ही स्थित है। ऐसे में श्रद्धालु उमरा नारायण मंदिर आते समय कोटेश्वर महादेव मंदिर में भी दर्शन कर सकते हैं। अलकनंदा नदी के किनारे गुफा के रूप में मौजूद कोटेश्वर महादेव मंदिर को लेकर मान्यता है कि केदारनाथ जाते समय भगवान शिव ने यहां पर साधना की थी।

कैसे पहुंचें उमरा नारायण मंदिर

यह प्रसिद्द धार्मिक स्थल रुद्रप्रयाग में  है। रुद्रप्रयाग से नजदीकी हवाई अड्डा लगभग 150 किलोमीटर दूर देहरादून में स्थित है, जबकि रुद्रप्रयाग से नजदीकी रेलवे स्टेशन लगभग 140 किलोमीटर दूर ऋषिकेश में स्थित है। रुद्रप्रयाग सड़क मार्ग द्वारा प्रदेश के अन्य प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। रुद्रप्रयाग से ऋषिकेश 140 किलोमीटर, हरिद्वार 160 किलोमीटर, टिहरी 112 किलोमीटर और नैनीताल 273 किलोमीटर दूर स्थित है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title umra narayan temple in rudraprayag of uttarakhand

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!