उत्तरकाशी में भागीरथी के संगम पर है भैरों घाटी, लंका से भैरों घाटी तक पैदल आते थे तीर्थयात्री

by admin

उत्तराखंड (uttarakhand) के उत्तरकाशी जिले (uttarkashi) में गंगोत्री धाम (gangotri dham) से 9 किलोमीटर की दूरी पर भागीरथी नदी (bhagirathi) के संगम पर पड़ने वाली भैरों घाटी (bhairon valley) व जध जाह्वी गंगा का सौंदर्य अद्भुत है। कल-कल बहती नदी, विशाल चट्टानें और देवदार के पेड़ों से घिरी भैरों घाटी का नजारा इतना सुंदर होता है कि हर कोई इसे निहारने के लिए बेबस सा हो जाता है। बताया जाता है कि 1985 से पहले तीर्थयात्री लंका से भैरों घाटी तक पैदल आते थे फिर यहीं से गंगोत्री धाम जाया करते थे। भैरों घाटी से आप भृगु पर्वत श्रृंखला, सुदर्शन, मातृ तथा चीड़वासा चोटियों के भी मनोरम दर्शन कर सकते हैं।

राजा विलसन ने कराया था पुल का निर्माण
जाह्वी नदी पर राजा विलसन ने एक रस्सी का पुल बनवाया था, जो विश्व का सर्वोच्च झूला पुल था। इस पुल से आप कई आश्चर्यजनक नजारों को निहार सकते थे। वर्तमान में यहां कुछ रस्सियों के टुकड़े ही बचे हैं। ई टी एटकिंसन ने साल 1882 की अपनी एक रचना हिमालयन गजेटियर में बताया है कि यहां एक झूला पुल था, जिसे वनाधिकारी ओ कैलाघन ने जाधगंगा पर एक हल्के लोहे के पुल का निर्माण करवाया था। जो कि 380 फीट लंबा व 3 फीट चौड़ा था। जिसे तीर्थयात्री रेंगकर पार करते थे।

bhairon valley uttarkashi uttarakhand

source – wikimapia

जाह्वी गंगा की खोज करने वाले हाॅगसन के बारे में यह कहा जाता है कि जब उन्होंने भैरों घाटी के प्रभावशाली सौंदर्य को देखा तो उसे निहारते ही रह गए। उन्हें विशाल चट्टानें, खडी दीवारें, उंचे देवदार के पेड़ और भागीरथी का मनोरम दृश्य बेहद आकर्षक लगा। इसके अलावा प्रसिद्ध पर्वतारोही हेनरिक हैरियर भैरों घाटी से जाह्वी के किनारे किनारे होकर तिब्बत तक पहुंच गया था। जहां वह दलाई लामा का शिक्षक बन गया था।

कैसे पहुंचे भैरों घाटी
भैरों घाटी तक पहुंचने के लिए उत्तरकाशी पहुंचना होगा। जहां से स्थानीय वाहनों से भैरों घाटी तक पहुंचा जा सकता है। सड़क मार्ग से जाने के लिए देहरादून बस अड्डे से उत्तरकाशी तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। वहीं रेल माध्यम से जाने के लिए भी देहरादून स्टेशन तक आसानी से देश के किसी भी हिस्से से पहुंच सकते हैं। हवाई मार्ग से जाने के लिए जाॅली ग्रांट हवाई अड्डा देहरादून तक पहुंचना होगा। देहरादून से उत्तरकाशी लगभग 188 किलोमीटर दूर है।

Uttarakhand Uttarkashi में इन प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के बारे में भी पढ़ें

Web Title  pilgrims used to walk from lanka to bhairon valley at the confluence of bhagirathi in uttarkashi uttarakhand

(Tourism Destinations from The Himalayan Diary)

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!