हमीरपुर की इस जगह पर आज भी हैं पांडवों के प्रमाण, महिलाओं को होती है संतान प्राप्ति

by Ravinder Singh

पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) में कई प्राकृतिक और आध्यात्मिक पर्यटन स्थल हैं। हिमाचल प्रदेश के कई पर्यटन स्थल देश-दुनिया में प्रसिद्ध हैं। वहीं कुछ पर्यटन स्थल ऐसे भी हैं, जो धार्मिक और प्राकृतिक दृष्टि से खूबसूरत तो बहुत हैं, लेकिन ज्यादा पर्यटक इनके बारे में जानते नहीं हैं। ऐसा एक ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है कुंती कुंड (kunti kund)। यह हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) के हमीरपुर जिला के बड़सर उपमंडल के ठठियार गांव के साथ लगते घने जंगलों में है। प्रकृति की बेहिसाब खूबसूरती के स्थित कुंती कुंड का धार्मिक दृष्टि से भी अत्यंत महत्व है। यहां की अनछुई खूबसूरती और धार्मिक महत्व पर्यटकों को काफी रास आता है।

पांडवों ने बिताया था समय

कुंती कुंड को लेकर मान्यता है कि इस जगह पर महाभारत के पात्र पांडवों ने कुछ समय गुजारा था। यहां आज भी पांडवों के द्वारा बिताए समय के निशान मौजूद हैं। कुंती कुंड के लिए जाते समय दैण गांव के जंगल में आज भी एक जगह पर महाबली भीम के दाएं पांव का निशान देखने को मिलता है। बुजुर्ग कहते हैं कि भीम का एक पैर हमीरपुर के इस जंगल में है तो दूसरा नयनादेवी के पास था। कुंती कुंड से कुछ दूरी पर बाण गंगा है। धार्मिक मान्यता है कि यहां पर पांच पांडवों में से एक अर्जुन ने तीर छोड़ा था, जिससे जलधारा प्रवाहित हुई थी। इसीलिए इस स्थान को बाण गंगा के नाम से जाना जाने लगा।

kunti kund himachal pradesh

Source – jagran

मिलता है संतान सुख

कुंती कुंड को लेकर श्रद्धालुओं का विश्वास है कि जिन स्त्रियों को संतान नहीं होती, उन्हें इस कुंड में स्नान करने मात्र से संतान सुख मिलता है। बड़ी संख्या में यहां महिलाऐं संतान प्राप्ति की मनोकामना लेकर पहुंचती है और कुंती कुंड में स्नान करती हैं। कुंती कुंड पर बैसाखी के दिन शाही स्नान होता है। इस दौरान दूर-दूर से श्रद्धालु यहां स्नान करने के लिए आते हैं। हालांकि धार्मिक और प्राकृतिक महत्व होने के बाद भी इस स्थल के बारे में कम हो लोग जानते हैं। स्थानीय लोगों का मानना है कि अगर इस कुंड की सही तरीके से देखरेख की जाए, तो यह जिले के प्रमुख तीर्थ स्थानों मे शामिल हो सकता है।

कैसे पहुंचें कुंती कुंड

यह प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हमीरपुर जिला मुख्यालय से मात्र 7 किलोमीटर की दूरी पर है। हमीरपुर से कुंती कुंड तक पहुंचने के लिए पहले हमीरपुर से 24 किलोमीटर दूर दैण गांव पहुंचना पड़ता है। भोटा से वाया रोपड़ी मार्ग से होते हुए दैण गांव पहुंचा जा सकता है। दैण गांव से दो किलोमीटर दूर घने जंगल में कुंती कुंड मौजूद है। हमीरपुर बस सेवा द्वारा दिल्ली, अमृतसर, देहरादून, हरिद्वार, अम्बाला, चंडीगढ़ सहित अन्य प्रमुख शहरों जुड़ा हुआ है। हमीरपुर से नजदीकी रेलवे स्टेशन लगभग 70 किलोमीटर दूर ऊना में है। हमीरपुर से निकटतम हवाई अड्डा लगभग 83 किलोमीटर दूर कांगड़ा का गग्गल हवाई अड्डा है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title pandavas spent time at kunti kund in himachal pradesh

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!