हमीरपुर से सात किमी दूर है प्रसिद्ध गसोता महादेव मंदिर, स्थापित है हजारों साल पुराना शिवलिंग

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) के हमीरपुर में गसोता महादेव शिव मंदिर (gasota mahadev shiva temple) हिंदू धर्म के लोगों के बीच खास महत्व है। यह धार्मिक स्थल भगवान शिव (lord shiva) को समर्पित है। यहां स्थापित हजारों साल पुराना शिवलिंग लोगों की आस्था का केंद्र बिंदु है। देश भर के श्रद्धालु गसोता महादेव में शिवलिंग की पूजा करने पहुंचते हैं। गसोता महादेव शिव मंदिर का इतिहास महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। मान्यता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने कुछ समय यहां व्यतीत किया था। यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए लंगर की बेहतर सुविधा हर दिन होती है। इसके अलावा यहां एक गौशाला भी है, जहां श्रद्धालु स्वेच्छा से घास व अन्य सामग्री दान करते हैं।

मंदिर का इतिहास

गसोता महादेव मंदिर में हजारों साल पुराना शिवलिंग स्थापित है। शिवलिंग के बारे में जनश्रुति है कि प्राचीन समय में एक किसान गसोता गांव में अपने खेत में हल चला रहा था। इस दौरान हल किसी वस्तु से टकराया और वहां से पानी धारा निकलने लगी। इसके बाद दोबारा हल टकराया तो दूध निकला और तीसरी बार टकराने पर खून निकला। खून देखते ही किसान के आंखों की रौशनी चली गई। इसके बाद भगवान शिव ने किसान को सपने में दर्शन दिए और खेत में से शिवलिंग निकालकर उसे स्थापित करने के लिए कहा। ग्रामीणों के सहयोग से किसान इसे गसोता में शिवलिंग स्थापित किया और अपने लिए अभयदान मांगा जो पूरा हुआ।

पौराणिक कथा

मान्यता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने गसोता गांव में कुछ समय बिताया था। इस दौरान वह एक गाय पालने लगे थे। एक बार यहां सुखा पड़ा तो गाय तड़पने लगी। इस पर भीम ने गदा से भूमि पर प्रहार किया। इससे वहां से जल की धारा बहने लगी, जो गसोता महादेव में सदियों से बह रही है।

gasota mahadev shiva temple

Source – youtube

हर मनोकामना होती है पूर्ण

गसोता महादेव मंदिर के पुजारी के अनुसार गसोता महादेव मंदिर लोगों की प्राचीन आस्था का केंद्र हैं। गसोता महादेव मंदिर में श्रद्धालुओं की हर मनोकामना पूर्ण होती है। गसोता महादेव के महंत के अनुसार गसोता महादेव एवं महादेव की पावन भूमि की महिमा का वर्णन इंद्रियों का विषय नहीं अपितु मन के विज्ञान का विषय है। महादेव की पावन भूमि में भक्ति, शक्ति, मुक्ति एवं भक्ति से युक्त महादेव की पावन भूमि की सेवा से साधक सकल लोक की प्राप्ति कर सकता है।

कैसे पहुंचें गसोता महादेव मंदिर

यह प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हमीरपुर जिला मुख्यालय से मात्र 7 किलोमीटर की दूरी पर है। हमीरपुर से गसोता महादेव मंदिर जाने के लिए सुविधा उपलब्ध है। हमीरपुर बस सेवा द्वारा दिल्ली, अमृतसर, देहरादून, हरिद्वार, अम्बाला, चंडीगढ़ सहित अन्य प्रमुख शहरों जुड़ा हुआ है। हमीरपुर से नजदीकी रेलवे स्टेशन लगभग 70 किलोमीटर दूर ऊना में है। हमीरपुर से निकटतम हवाई अड्डा लगभग 83 किलोमीटर दूर कांगड़ा का गग्गल हवाई अड्डा है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title gasota mahadev shiva temple

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!