अविस्मरणीय सौंदर्य से भरपूर शिमला की सबसे ऊंची चोटी चांशल की यात्रा में एडवेंचर का मजा

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) अपनी प्राकृतिक खूबसूरती और शुद्ध व शांत वातावरण के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। खासकर प्रकृति से प्यार करने वाले पर्यटकों को हिमाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल काफी पसंद आते हैं। हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) का ऐसा ही एक पर्यटन स्थल है चांशल दर्रा (chanshal pass), जो पर्यटकों के बीच आकर्षण का केंद्र है। हिमाचल (himachal) की राजधानी शिमला (shimla) से लगभग 155 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद चांशल दर्रा (chanshal pass) समुद्रतल से 14830 फीट की ऊंचाई पर है। यह शिमला जिले की सबसे ऊंची चोटी है और चांशल ट्रेक शिमला के सबसे प्रसिद्ध ट्रेक में से एक है। यहां से प्रकृति के अविस्मरणीय नजारों को अपनी आंखों में कैद किया जा सकता है।

प्राकृतिक सौन्दर्य

अगर आप प्रकृति प्रेमी होने के साथ-साथ एडवेंचर के शौकीन हो, तो यह जगह आपको जरूर पसंद आएगी। यहां की दिलकश खूबसूरती पर्यटकों को रोमांचित करती है। यह घाटी बहुत ही शांत और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। अगर आप बर्फ प्रेमी हैं और बर्फ से ढकी पहाड़ियों का आनंद लेना चाहते हैं, तो आप यहां आ सकते हैं। यह पहाड़ियां सर्दियों में बर्फ से ढकी हुई रहती हैं। वहीं गर्मी के मौसम में यहां खिले फूल पर्यटकों का स्वागत करते हैं। चांशल घाटी पर बना प्राकृतिक सरोवर सारूताल भी पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है। बता दें कि चांसल दर्रा शिमला जिले के डोडरा कवार और रोहड़ू (चिरगांव) को आपस में जोड़ने वाला इकलौता मार्ग है।

chanshal pass shimla

Source – WANDER THE HIMALAYAS

एडवेंचर का लें मजा

एडवेंचर प्रेमी पर्यटकों को भी चांशल घाटी काफी पसंद आती है। अगर आप बाइक चलाने के शौकीन हैं, तो आप यहां बाइक राइडिंग का मजा ले सकते हो। इसके अलावा फोटोग्राफी में रुचि रखने वाले पर्यटक यहां प्रकृति के खूबसूरत नजारों को कैमरे में कैद कर सकते हैं। ट्रेकिंग करने की चाहत रखने वाले पर्यटक यहां की पहाड़ियों पर ट्रेकिंग कर सकते हैं। खास बात यह है कि यहां पहाड़ पर चलना थोड़ा आसान होता है। यहां सभी पहाड़ एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं और पैदल आसानी से घूम सकते हैं। यहां मनमोहक, लुभावने दृश्यों के बीच ट्रेकिंग करना सुखद आनंद देता है। खाने के शौकीनों के लिए भी बहुत कुछ है। चांसल दर्रे का रास्ता अनगिनत भोजनालयों और ढाबों से पटा पड़ा है। पर्यटकों के रुकने के लिए रोहड़ू में आवास भी उपलब्ध हैं।

पब्बर घाटी

चांशल घाटी की यात्रा के दौरान आप लगभग 45 किलोमीटर दूर मौजूद पब्बर घाटी का भी रुख कर सकते हैं। पर्यटक पब्बर घाटी आकर ट्रैकिंग, स्कीइंग, शिविर लगाना, पैराग्लाइडिंग और हैंड ग्लाइडिंग जैसी साहसिक गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं। पब्बर घाटी से लगभग 31 किलोमीटर दूर एक अन्य खूबसूरत पर्यटन स्थल जुब्बल है, जो यूरोपीय और वर्नाक्यूलर शिल्पकला के खूबसूरत महल के लिए प्रसिद्द है।

कैसे पहुंचे चांशल घाटी

शिमला से फागू-ठियोग-खड़ापत्थर-हाटकोटी-रोहड़ू होते हुए चांशल घाटी तक पहुंचा जा सकता है। पर्यटक शिमला से बस की मदद से रोहड़ू तक आ सकते हैं। रोहड़ू से चांशल घाटी की दूरी लगभग 45 किलोमीटर है। इस दूरी को निजी वाहन या किराए के वाहन से तय कर सकते हैं। चांशल घाटी से नजदीकी बड़ा रेलवे स्टेशन लगभग 230 किलोमीटर दूर कालका में है। कालका तक ब्रॉड गैज लाइन बिछी है। कालका से शिमला के लिए टॉय ट्रेन चलती है, जो नैरो गेज लाइन है। चांशल घाटी से निकटतम बड़ा हवाई अड्डा लगभग 260 किलोमीटर दूर चंडीगढ़ में है। पर्यटक चंडीगढ़ एयरपोर्ट या दिल्ली एयरपोर्ट से फ्लाइट लेकर जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डा तक आ सकते है। चांशल घाटी से जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डा की दूरी लगभग 175 किलोमीटर है।

Shimla के आसपास के इन पर्यटक स्थलों के बारे में जानें

Web Title chanshal pass of shimla in himachal pradesh

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!