श्रीनगर गढ़वाल में मिलेगा मरीन ड्राइव का मजा, अलकनंदा नदी किनारे 7.5 किलोमीटर लंबा होगा

by admin

अब आपको मरीन ड्राइव (marine drive) की सैर के लिए मुंबई जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उत्तराखंड (uttarakhand) के श्रीनगर (srinagar) में पहाड़ों का लुत्फ उठाने के साथ ही अलकनंदा नदी (alakananda) के किनारे पर मरीन ड्राइव जैसा मजा ले सकेंगे। इसके लिए तैयारियां तेज कर दी हैं। अलकनंदा नदी के किनारे 12 मीटर चौड़ाई वाले इस मरीन ड्राइव 7.5 किलोमीटर लंबा होगा। इसको लेकर प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ बैठक की है। जिसमें श्रीनगर गढ़वाल में प्रस्तावित इस मरीन ड्राइव के निर्माण को लेकर रूपरेखा तैयार की गई।

उत्तराखंड पर्यटन (Uttarakhand Tourism) के क्षेत्र में लगातार विकास करता जा रहा है। यहां पहले से ही कई धार्मिक व पर्यटन स्थल शामिल हैं। आगामी दिनों में इनके साथ-साथ मरीन ड्राइव भी शामिल हो जाएगा। गढ़वाल में यह अपनी तरह का पहला विशेष मरीन ड्राइव होगा। अधिकारियों के बीच हुई इस बैठक में मरीन ड्राइव के निर्माण के लिए डीपीआर (डिटेल्ड प्राॅजेक्ट रिपोर्ट) तैयार किए जाने के लिए मंथन करने के साथ ही जरूरी बिंदुओं पर विचार किया गया। डीपीआर के तैयार होने के साथ ही आगे की कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। अप्रैल के अंतिम सप्ताह से अधिकारी मरीन ड्राइव के काम को पूरा करने में जुटे हुए हैं। इसके निर्माण के बाद यह आकर्षक टूरिस्ट स्पाॅट (tourist spot) के तौर पर बनकर सामने आएगा।

marine drive mumbai

source – holidrify

अलकनंदा नदी किनारे मरीन ड्राइव 12 मीटर चौड़ाई वाला होगा। यह 10 मीटर तक पेंटेड भी होगा। इसे डबल लेन बनाया जाएगा। यह चैरास झूला पुल तक नदी में पिलर के ऊपर से गुजरेगा। इसे पंचपीपल से लेकर चैरास मोटर पुल तक बनाया जाएगा। इसकी लंबाई कि बात करें तो यह 7.5 किलोमीटर लंबा होगा। यह वर्तमान नए बस अड्डे के पास बन रहे रेलवे पुल की वजह से फ्लाई ओवर ब्रिज से भी होकर गुजरेगा। इसके बनने पर उत्तराखंड आने वाले पर्यटक अब मरीन ड्राइव का लुत्फ भी उठा सकेंगे। ऐसा माना जा रहा है कि इस प्राॅजेक्ट के पूरा होने से इस पूरे इलाके में पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा।

Uttarakhand Srinagar के आसपास की इन जगहों के बारे में भी पढ़ें

web title you will soon enjoy marine drive in srinagar garhwal of  uttarakhand

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!