ब्यास नदी के किनारे हुआ अलर्ट जारी, छोड़ा गया लारजी डैम से पानी

by Content Editor

गर्मी का मौसम आते ही ग्लेश्यिर और बर्फ पिघलने के कारण ब्यास नदी के जलस्तर में इजाफा होने लगता है। इसके अलावा पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश के कारण भी ब्यास नदी का जलस्तर बढ़ने लगता है। जिस वजह से हिमाचल के मंडी जिले में लारजी डैम से रविवार 23 जून की सुबह को पानी छोड़ दिया गया है। नदी के तेज बहाव के चलते ऐसा किया गया है। डैम से पानी छोड़ने की प्रक्रिया सोमवार यानि कि 24जून को सुबह 6 बजे तक रहेगी। हर साल की तरह इस साल भी डैम से गाद निकासी के लिए फ्लशिंग की यह प्रक्रिया अपनाई जा रही है। यहां हर साल पानी अपने साथ पीछे से बड़ी मात्रा में गाद लेकर आता है, जो डैम के किनारों पर जमा हो जाती है। ऐसे में इस गाद को अगर न निकाला जाए, तो इससे डैम पर खतरा मंडराने लग जाता है। जिस वजह है कि हर साल बरसात से पहले एक बार डैम की फ्लशिंग की जाती है।

water released from larji dam himachal

गर्मियों के मौसम में पर्यटकों की संख्या ज्यादा रहती है जिस वजह से स्थानीय लोगों और बाहर से आने वाले पर्यटकों से ब्यास नदी के किनारे न जाने की सलाह दी गई है। लारजी डैम से पानी छोड़ने के कारण पंडोह डैम पर अधिक दबाव बढ़ गया है। पंडोह डैम के जलस्तर में भी लगातार ईजाफा हो रहा है। अगर पानी खतरे के निशान तक पहुंच गया तो पंडोह डैम से भी पानी छोड़ा जा सकता है। अभी मानसून आने वाला है। इससे डैम पर खतरा मंडराने लग जाता है, इसलिए हर साल बरसात से पहले एक बार डैम की फ्लशिंग की जानी होती है। इसके लिए डैम के सभी पांचों गेट खोल दिए गए हैं और ब्यास नदी में भारी मात्रा में पानी छोड़ा गया है।

इसे भी पढ़ें – वीकेंड पर बड़ी संख्या में Shimla पहुंचे पर्यटक, होटल रहे फुल

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!