वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने क्वारंटीन किए लोगों के लिए रमजान में सहरी और इफ्तारी का भी किया इंतजाम

by admin

उदारचरितानांतु वसुधैव कुटुम्बकम्। इसका अर्थ है यह अपना बंधु है और यह अपना बंधु नहीं है, इस तरह की गणना छोटे चित्त वाले लोग करते हैं। उदार हृदय वाले लोगों की तो पूरी धरती ही परिवार है। इस पंक्ति को जम्मू (jammu) के कटड़ा (katra) स्थित श्री माता वैष्णो देवी (mata vaishno devi) धाम के श्राइन बोर्ड (shrine board) ने चरितार्थ किया है। माता वैष्णो देवी मंदिर का संचालन करने वाले इस बोर्ड ने रमजान के मौके पर मुश्किल में फंसे मुस्लिम परिवारों को सहरी और इफ्तारी खिलाकर मिसाल कायम की है। लॉकडाउन के चलते यहां बने आशीर्वाद भवन को क्वारंटीन सेंटर में बदल दिया गया है। यहां 500 मुस्लिम क्वारंटीन किए गए हैं, इन लोगों के खाने पीने का इंतजाम श्राइन बोर्ड की ओर से ही किया जा रहा है।

बोर्ड के सीईओ के अनुसार मुस्लिम भाई बहनों के सहरी और इफ्तार की व्यवस्था की गई थी। सभी मुस्लिम परिवार के लोगों को विशेष पकवान भी दिए जा रहे हैं। मुस्लिम समुदाय की आस्था को ध्यान में रखते हुए बोर्ड ने रसोई और खाने के मैन्यू में भी बदलाव किया है। रसोई में खाना बनाने वालों को समय पर खाना बनाकर देने के लिए कहा गया है। अभी तक लोगों को खाना खिलाने के लिए 80 लाख रुपये तक का खर्चा हो चुका है।

three special train for mata vaishno devi

वहीं बोर्ड की तरफ से कोविड-19 से जंग के लिए 1.5 करोड़ रुपये की रकम का योगदान भी दिया जा चुका है। आशीर्वाद भवन में क्वॉरेंटाइन सेंटर में प्रवासी कामगार रह रहे हैं। यह लोग रमजान में लाकडाउन के खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं। जिससे जल्द ही अपनों के बीच जा सके। बताते चलें कि कोरोना महामारी के फैलने पर मार्च में ही वैष्णो देवी यात्रा बंद कर दी गई थी।

Mata Vaishno Devi से जुड़ी इन खबरों को भी पढ़ें

Web Title vaishno devi shrine board is offering sahari and iftari to muslims

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!