हरिद्वार महाकुंभ 2021 से पहले बदरीनाथ से लेकर हरिद्वार तक बदला मिलेगा घाटों का स्वरूप

by admin

उत्तराखंड (uttarakhand) में बदरीनाथ से लेकर हरिद्वार तक गंगा और उसकी सहायक नदियों पर बहुत जल्द घाटों का बदला स्वरूप नजर आएगा। इसके साथ ही गंगा का पानी भी पहले से अधिक साफ व स्वच्छ नजर आएगा। बदरीनाथ से लेकर हरिद्वार तक नए स्नान घाट व मोक्ष घाट महाकुंभ 2021 से पहले बनाए जाने हैं। जिससे यहां आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों को किसी भी तरह की असुविधा न हो। उत्तराखंड सरकार को नमामि गंगा परियोजना (namami gange project) के तहत मिलने वाली 22 करोड़ रुपये की धनराशि से यह काम किया जाएगा।

नमामि गंगे परियोजना के तहत घाटों के पुनरुद्धार व गंगा की स्वच्छता आदि के काम को पूरा करने का लक्ष्य महाकुंभ से पहले का रखा गया है। नमामि गंगे परियोजना के तहत उत्तराखंड में टिहरी, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, पौड़ी व हरिद्वार में 192 करोड़ की लागत से 44 स्नान व मोक्ष घाट तैयार कराए जा चुके हैं। इसके साथ ही हरिद्वार में कई घाटों के पुनरुद्धार के लिए भी 34 करोड़ रुपये की धनराशि दी जानी है। इस काम की जिम्मेदारी सिंचाई विभाग को दी गई है। सिंचाई विभाग की ओर से 20 फीसदी काम भी पूरा किया जा चुका है।

namami gange project uttarakhand

source – jagran josh

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन को जिन 8 प्रस्तावों को भेजा गया है, उन पर जल्द ही मुहर लगने की संभावना जताई जा रही है। इसके अलावा मनेरी, गंगोत्री धाम, बदरीनाथ धाम में जिन घाटों का निर्माण किया जाना है, उनके टेंडर की प्रक्रिया जारी है। इन घाटों के निर्माण के दौरान ही अन्य घाटों के भी निर्माण की आवश्यकता महसूस की गई है। उत्तराखंड सरकार को 22 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट मिलते ही अन्य घाटों के निर्माण का काम भी तेजी से आगे बढ़ाया जाएगा। जिसका आने वाले समय में श्रद्धालु व साधु लाभ उठा सकेंगे।

Uttarakhand से जुड़ी यह खबरें भी पढ़ें

Web Title  uttarakhand will get 22 crores for construction of ghats under namami gange project

(Religious News from The Himalayan Diary)

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!