तत्तापानी पर्यटन उत्सव में बनी 1995 किलोग्राम खिचड़ी, गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में शामिल

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) की राजधानी शिमला (shimla) से लगभग 50 किलोमीटर दूर तत्तापानी (tattapani) में पर्यटन विभाग की ओर से मकर संक्रांति पर तत्तापानी पर्यटन उत्सव (tattapani tourism festival) का आयोजन किया गया। उत्सव के दौरान करीब 1995 किलोग्राम खिचड़ी बनाई गई। इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड (record) में शामिल किया गया है। 1995 किलोग्राम खिचड़ी बनाने के लिए हरियाणा से चार फीट ऊंचा और सात फीट चौड़ा पतीला मंगवाया गया था। खिचड़ी बनाने में करीब पांच घंटे का समय लगा। खिचड़ी बनने के बाद पतीले को चूल्हे से उतारने के लिए क्रेन बुलाई गई। 1995 किलोग्राम खिचड़ी को तत्तापानी पर्यटन उत्सव में स्नान करने के लिए पहुंचे लोगों को प्रसाद के रूप में बांटा गया।

मुख्यमंत्री को सौंपा अस्थायी प्रमाण पत्र

प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी तत्तापानी पर्यटन उत्सव में शिरकत की। गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के प्रतिनिधियों ने रिकॉर्ड का अस्थायी प्रमाण पत्र मुख्यमंत्री को सौंपा। स्‍थायी प्रमाण पत्र करीब दो माह बाद जारी होगा। 1995 किलोग्राम खिचड़ी बनाने के लिए 405 किलोग्राम चावल, 195 किलोग्राम दाल, 90 किलो घी, 55 किलो मसाले, 65 किलो मटर और 1100 लीटर पानी का इस्तेमाल किया गया। यह खिचड़ी लगभग 20000 लोगों को परोसी गई। खिचड़ी जिस बर्तन में बनाई गई उसका भार करीब 270 किलोग्राम है। खिचड़ी पकाने के लिए ईंटों का बड़ा चूल्हा बनाया गया था।

tattapani tourism festival

Source – jagran

पूर्व संध्या पर पहुंचे राज्यपाल

तत्तापानी पर्यटन उत्सव से एक दिन पहले सोमवार शाम को हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय भी तत्तापानी पहुंचे। यहां उन्होंने पवित्र जल में स्नान किया। राज्यपाल ने कहा कि पौराणिक महत्व के इस स्थान को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाना चाहिए। उन्होंने तत्तापानी को बहुत ही सुंदर और दर्शनीय स्थल बताते हुए विभिन्न गतिविधियां आयोजित करने के लिए जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग की सराहना की। बता दें कि तत्तापानी सतलुज के किनारे से फूटते गर्म सल्फरयुक्त पानी के लिए मशहूर है। इसे ऋषि जमदग्नि की तपोस्थली भी माना जाता है। मकर संक्रांति पर यहां हर साल आस्था का सैलाब उमड़ता है। हजारों की संख्या में लोग तत्तापानी के मशहूर गर्म पानी के चश्मों में डुबकी लगाते हैं। तत्तापानी के सल्फरयुक्त गर्म पानी में स्नान करने से चर्म रोगों से भी मुक्ति मिलती है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title tattapani tourism festival record

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!