राम मंदिर निर्माण में इस्तेमाल किया जाएगा हिमाचल प्रदेश के तीर्थस्थलों की मिट्टी और पानी

by Ravinder Singh

सुप्रीम कोर्ट (supreme court) के ऐतिहासिक फैसले और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (shriram janmabhoomi teerth kshetra trust) के गठन के बाद उत्तरप्रदेश के अयोध्या (ayodhya) में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर (ram mandir) का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। देश-विदेश के करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र अयोध्या में बनने जा रहे राम मंदिर के निर्माण में हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) के तीर्थ स्थानों (pilgrimage) की मिट्टी और जल का इस्तेमाल किया जाएगा। तीर्थ स्थानों की मिट्टी और जल इकट्ठा करने के लिए विश्व हिंदू परिषद विशेष तैयारी की है। हिमाचल प्रदेश विश्व हिंदू परिषद अध्यक्ष ने मंडी में इस संबध में जानकारी दी है।

हर जिले से इकट्ठा करेंगे जल और मिट्टी

उन्होंने बताया है कि हिमाचल प्रदेश में जितने भी प्राचीन धार्मिक स्थल, पवित्र नदियां और झीलें हैं, वहां से मिट्टी और जल को इकट्ठा करके अयोध्या भेजा जाएगा। ताकि राम मंदिर के निर्माण में इनका इस्तेमाल किया जा सके। इस काम को हिमाचल प्रदेश के प्रत्येक जिले में तैनात विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता करेंगे। अगर मंडी जिले (mandi) की बात करें, तो यहां की कमरूनाग झील, रिवालसर झील, पराशर झील, ब्यास नदी, शिकारी देवी और अन्य प्राचीन धार्मिक स्थानों की मिट्टी और जल भेजने की योजना बनाई गई है। इन स्थानों से मिट्टी और जल को इकट्ठा करने के बाद उन्हें डाक के माध्यम से अयोध्या भिजवाया जाएगा।

himachal pradesh pilgrimage

Source – news18

सामूहिक प्रार्थनाओं का आयोजन

हिमाचल प्रदेश विश्व हिंदू परिषद अध्यक्ष के अनुसार राष्ट्रीय स्तर पर विश्व हिंदू परिषद ने यह निर्णय लिया है। इसके तहत देशभर के प्राचीन धार्मिक स्थलों से मिट्टी और जल को अयोध्या भेजा जाएगा। इसके अलावा उन्होंने बताया कि राम मंदिर का निर्माण बिना किसी अड़चन के पूरा होने और कोरोना संकट से मुक्ति दिलाने के लिए विश्व हिंदू परिषद द्वारा 19 मई से सामूहिक प्रार्थनाओं का आयोजन करवा रही है। यह प्रार्थनाएं और सत्संग लोग अपने घरों पर कर रहे हैं। अब तक 41 हजार परिवारों के 1 लाख 27 हजार 538 लोग इसमें भाग ले चुके हैं। विश्व हिंदू परिषद 4 जून को फिर से सामूहिक प्रार्थना और सत्संग का आयोजन करने जा रही है। इसमें 60 हजार परिवारों के दो लाख लोगों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है।

Himachal के इन मंदिरों के बारे में भी पढ़ें

Web Title soil and water of himachal pradesh pilgrimage sites will be sent for construction of ram mandir

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!