पहाड़ों पर बर्फबारी जारी, माइनस में पहुंचा तापमान

by vagavogue

हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) के कई हिस्सों में पिछले तीन दिनों से भारी बर्फ़बारी (snowfall) हो रही है। प्रदेश के लाहौल, स्पीती और किन्नौर जिले सहित लाहौल-स्पीती के रोहतांग दर्रे में बर्फबारी देखने को मिल रही है। बर्फ़बारी से सड़कें और लोगों के घर बर्फ की सफेद चादर से ढंक गए। कई जगहों पर सड़कें ब्लॉक होने की वजह से यात्रियों को परेशानी भी झेलनी पड़ी। बर्फ़बारी होने के कारण मनाली-लेह हाईवे और रोहतांग पास बंद हो गया है। बीआरओ के जवान बहाली में जुटे हुए है। बीआरओ का दावा है कि आज रोहतांग दर्रे को बहाल कर लेंगे।
चोटियों पर माइनस में पहुंचा तापमान
पहाड़ों पर भारी बर्फ़बारी का असर उत्तर भारत के मैदानी इलाकों पर भी साफ देखा जा रहा है। पूरे उत्तर भारत में पारा एकदम से लुढ़क गया है। वहीं चोटियों पर पारा माइनस 15 डिग्री तक पहुंच गया है। चोटियों की तलहटी में बनी सूरजताल, चंद्रताल समेत अन्य झीलों पर बर्फ की मोटी परत जम गई है। तापमान में भारी गिरावट के कारण पेयजल टैंक जम गए। इस कारण लोगों को पीने के पानी के लिए भी काफी मशक्कत करनी पड़ी।

Image result for snowfall in himachal

Source- ANI

14 नवंबर से फिर होगी बारिश
सोमवार सुबह भी हिमाचल में हल्के बादल छाए रहे। शिमला में सोमवार सुबह का न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्री जबकि मनाली में 3.6 डिग्री, कुफरी में 6.9 डिग्री, कल्पा में 1.8 डिग्री, केलांग में माइनस 3.9 डिग्री, धर्मशाला में 12.2 डिग्री, मंडी में 10.7 डिग्री दर्ज किया गया है।
दूसरी तरफ मौसम विज्ञान के शिमला केंद्र का कहना है कि 13 नवंबर तक प्रदेश में मौसम साफ़ रहेगा। 14 नवंबर से प्रदेश के मध्य और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में फिर पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा। इससे 14 नवंबर से 16 नवंबर तक प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में बारिश-बर्फबारी हो सकती है। हालांकि, मैदानी क्षेत्रों में मौसम साफ रहेगा।

snowfall in himachal pradesh

गुलमर्ग-रोहतांग समेत पहाड़ी राज्यों में शुरु हुई बर्फबारी, सैलानी उठा रहे लुत्फ
हाईटेक तकनीक से तैयार होगा ऋषिकेश का नया लक्ष्मणझूला पुल, दिखेगी केदारनाथ मंदिर की झलक
उत्तराखंड के इतिहास में प्राचीन सिद्धपीठों में से एक है गौरादेवी देवलगढ़

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!