बारिश-बर्फबारी के बाद हिमाचल में सूरज ने बिखेरी रोशनी, खूबसूरत हुआ पहाड़ों का नजारा

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिश के कारण तापमान में तेजी से गिरावट आई है। हालांकि बर्फबारी के बाद प्रदेश के ऊंचे इलाकों में धूप खिली है। धूप खिलने से लोगों को राहत मिली है। कुल्लू व लाहुल-स्पीति घाटी में पिछले तीन दिनों से जारी बर्फबारी और बारिश के बाद गुरुवार को मौसम साफ़ हुआ। इससे पहले बुधवार को लाहुल स्पीति, किन्नौर, शिमला सहित अन्य ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी होने से निचले इलाकों में ठंड बढ़ गई है। बुधवार रात को नारकंडा, खड़ापत्थर, रोहड़ू की चांशल घाटी सहित ऊंचे स्थानों पर हिमपात हुआ। बुधवार सुबह लाहुल स्पिति के कोकसर में 8 इंच ताजा बर्फबारी हुई।

बुधवार रात को बिजली महादेव में 3 इंच, मलाणा में आधा फुट, रोहतांग दर्रे पर 3 फीट, मढ़ी में 1 और सोलंग नाला में आधा फुट बर्फ गिरी है। इनके अलावा प्रदेश के अन्य इलाकों में भी बर्फबारी हुई। इस बर्फबारी को किसानों के लिए लाभकारी माना जाता है। बर्फबारी के कारण किसानों, बागवानों के साथ पर्यटन व्यवसायियों ने खुशी जताई है। बुधवार को बर्फबारी के कारण तापमान में गिरावट दर्ज की गई है।

बर्फबारी के कारण रोहतांग पास को अगले पांच महीने के लिए बंद कर दिया गया है। रोहतांग पास बंद होने के कारण लाहौल घाटी आने वाले 200 से ज्यादा लोग मनाली में फंसे होने की सूचना है। मौसम विभाग ने 12 से 14 नवंबर तक हिमाचल में बारिश और बर्फबारी की चेतावनी पहले ही दे दी थी।

बुधवार को धर्मशाला में अधिकतम पारा 18.2 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके अलावा शिमला में अधिकतम तापमान 16.2 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 03.3, मनाली में अधिकतम तापमान 10.6 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान -1.2 डिग्री सेल्सियस, भंतुर में अधिकतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम तापमान 4.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम विभाग की ओर से आगामी 24 घंटों के दौरान मौसम शुष्क रहने की संभावना जताई है।

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!