अमरनाथ यात्रा पर सरकार ने लगाई रोक, श्रद्धालुओं में छाई मायूसी

by Ravinder Singh

पहले खराब मौसम और अब सरकार के आदेश के बाद अब श्रद्धालु इस वर्ष बाबा बर्फानी के दर्शन नहीं कर पाएंगे। दरअसल आतंकी हमले की आशंका के चलते जम्मू कश्मीर सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए अमरनाथ यात्रा के सभी तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को वापस बुलाने का फैसला (restriction on amarnath yatra) किया है। सरकार ने श्रद्धालुओं और पर्यटकों से अपील की है कि वह जितनी जल्दी हो सके वापस अपने घरों की तरफ लौट जाए। सरकार की मानें तो आतंकी अमरनाथ यात्रियों को निशाना बनाने की कोशिशों में लगे हुए हैं। इसकी जानकारी सीआरपीएफ, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी है। जम्मू कश्मीर गृह विभाग ने यह आदेश खुफिया इनपुट के आधार पर दिया है।

श्रद्धालुओं में छाई मायूसी

इससे पहले सुरक्षाबलों को अमरनाथ यात्रा के मार्ग में एक आतंकी ठिकाने से अमेरिकन स्नाइपर राइफल और पाकिस्तान में बनी बारूदी सुरंग मिली थी। जिसके बाद सुरक्षा बल अलर्ट हो गए और उन्होंने अमरनाथ यात्रा संभावित खतरे को देखते हुए यात्रा को स्थगित करने का फैसला लिया है। सरकार के इस फैसले के बाद कश्मीर घाटी में आए सभी पर्यटकों और अमरनाथ यात्रा में शामिल होने जा रहे सभी श्रद्धालुओं में मायूसी सी छाई हुई है। इस बीच श्रद्धालु भारत माता की जय और भोलेनाथ के जयकारे लगाते हुए देश के जवानों का मनोबल भी बढ़ा रहे हैं। चिनार कोर के कमांडर का कहना है कि फिलहाल एलओसी पर हालात पूरी तरह से नियंत्रण में हैं और पूरी तरह से शांति है।

restriction on amarnath yatra
3 लाख से ज्यादा ने किए दर्शन

बता दें कि मौसम विभाग की इस चेतावनी के बाद गुरुवार को बाबा अमरनाथ यात्रा को जम्मू से 4 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। यह निर्णय जम्मू-कश्मीर में अगले कुछ दिनों के दौरान भारी बारिश के पुर्वानुमान को देखते हुए लिया था। मौसम विभाग ने पूरे राज्य में अगले कुछ दिनों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी जारी की थी, जिसके बाद प्रशासन ने कुछ दिनों के लिए अमरनाथ यात्रा रोकने का निर्णय किया था। एक जुलाई से शुरू हुई बाबा अमरनाथ यात्रा के तहत अब तक 3.32 लाख श्रद्धालु पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन कर चुके हैं।

restriction on amarnath yatra

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!