गढ़वाल की पारंपरिक मिठाई है रोटाना, पहाड़ी बिस्किट भी कहते हैं लोग

by Ravinder Singh

रोटाना (rotana) उत्तराखंड (uttarakhand) के गढ़वाल (garhwal) की एक पारंपरिक मिठाई है। इसे गेहूं के आटे, घी और नारियल के मिश्रण से बनाया जाता है। यह खाने में स्वादिष्ट और पौष्टिक होती है। ये बाहर से कुरकुरा और अंदर से मुलायम होता है। गढ़वाल के घर-घर में बनाए जाने वाले स्वाद से भरपूर इन रोटाना को रोटाने, रोट (कल्यो) अथवा पहाड़ी बिस्किट भी कहते हैं। खासकर शादियों और त्योहारों पर इसे विशेषतौर पर बनाया जाता है। तो चलिए जानते हैं कि रोटाना को किस तरह से बनाया जाता है।

सामग्री

गेहूं का आटा – एक कप

गुड़ – 1/4 कप

घी – एक बड़ी चम्मच

छोटी इलाइची का पाउडर – आधी छोटी चम्मच

दूध – 2 बड़ी चम्मच

कसा हुआ सूखा नारियल – 2 बड़ी चम्मच

चीनी पाउडर – सजाने के लिए

तेल – तलने के लिए

garhwal rotana

Source – vijay jayara

कैसे बनाई जाती है रोटाना

इसे बनाने के लिए सबसे पहले गुड़ में थोड़ा पानी मिलकर उसे गर्म किया जाता है। जब गुड़ की चाशनी बन जाती है तो गैस को बंद करके चाशनी को ठंडा किया जाता है। इसके बाद आटे में घी मिलाकर उसे हाथों से अच्छी तरह मला जाता है। इसके बाद आटे में इलाइची पाउडर, दूध और नारियल मिला कर उसमें धीरे-धीरे चाशनी डालकर गूंथा जाता है। आटे को गूंथने के बाद करीब 10 मिनट तक उसे ढककर रखा जाता है। इसके बाद आटे को एक बार फिर से गूंथा जाता है। इसके बाद आटे की अखरोट के आकार की गोलियां बनाई जाती है। फिर आटे को गोलियां को सांचे या अन्य चीज से मनचाहा आकार देकर गर्म तेल में तला जाता है। अंत में अपनी इच्छानुसार सजावट के लिए रोटाना पर चीनी पाउडर या भुने हुए तिल डाले जाते हैं।

Uttarakhand के इन व्यंजनों के बारे में भी पढ़ें

Web Title recipe of garhwal dessert rotana

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!