हिमाचल की वादियों में अब लीजिए उड़ने का मजा, एडवेंजर टूरिज्म के शौकीनों के लिए शुरू हुई पैराग्लाइडिंग

by admin

हिमाचल प्रदेश (himachal) में पर्यटन (Tourism) को बढ़ावा देने के लिए 16 सितंबर से पैराग्लाइडिंग (paragliding) शुरू कर दी गई है। जिसका लुत्फ स्थानीय व बाहरी राज्यों से आने वाले पर्यटक उठा सकेंगे। पर्यटन विभाग की ओर से पैराग्लाइडिंग पर लगी रोक को हटा दिया गया है। राज्य सरकार की ओर से प्रदेश में कोरोना रिपोर्ट को साथ लाने पर भी छूट दे दी गई है। ऐसे में एक बार फिर से पर्यटन गतिविधियों को पंख लगने की उम्मीद बढ़ गई है।

कोरोना संक्रमण के चलते पर्यटन विभाग ने पैराग्लाइडिंग पर रोक लगा दी थी। 16 सितंबर से कांगड़ा के बीड़-बिलिंग, मनाली के सोलंगनाला, चंबा के खज्जियार और धर्मशाला सहित प्रदेश के अन्य जिलों के पर्यटन क्षेत्रों में भी पर्यटक पैराग्लाइडिंग कर सकेंगे। पर्यटन नगरी कहे जाने वाले खज्जियार में करीब 80 पैराग्लाइडिंग पायलट के पास लाइसेंस हैं, जहां पर्यटक पैराग्लाइडिंग का लुत्फ उठा सकते हैं। राज्य सरकार की ओर से प्रदेश के सभी होटलों को भी पर्यटकों के लिए खोलने की इजाजत दे दी गई है।

himachal tourism paragliding

Source – Oneindia

कोरोना संक्रमण की वजह से मार्च से पर्यटन विभाग ने पैराग्लाइडिंग पर रोक लगा दी थी। रोक हटने के बाद पैराग्लाइडरों में एक बार फिर से उम्मीद जगी है कि आने वाले दिनों में सैलानी पर्यटक साहसिक गतिविधियों के लिए राज्य में आएंगे। वहीं पर्यटन नगरी कहे जाने वाले खज्जियार में पर्यटन विभाग ने दड़ोता से लाहड़ा और लाहड़ा से द्रोल दो उड़ान स्थल चिन्हित किए हैं।

प्रदेश में साहसिक पर्यटन (Adventure Tourism) को बढ़ावा देने के लिए अब राज्य सरकार ने सभी जरूरी कदम उठाने शुरू कर दिए है। सबसे पहले राज्य में बाहर से आने वाले सैलानियों के होटलों में ठहरने पर 40 फीसदी तक की छूट देने का निर्णय लिया गया। उसके बाद पर्यटकों के लिए राज्य में प्रवेश से पहले रजिस्ट्रेशन, कोरोना निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना, होटल एडवांस बुकिंग कराने जैसे नियमों को खत्म कर दिया है। जिससे कोरोना संक्रमण के समय पर्यटन क्षेत्र में हुए आर्थिक नुकसान की भरपाई की जा सके।

Himachal में इन जगहों के बारे में भी जानें

Web Title paragliding tourism activity in himachal pradesh has been started for tourists

(Tourism News from The Himalayan Diary)

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!