पुंछ के सबसे प्राचीन धार्मिक स्‍थल में से एक है नंगाली साहिब गुरुद्वारा, 1803 में हुआ था निर्माण

by Ravinder Singh

जम्‍मू-कश्‍मीर (jammu kashmir) राज्‍य में पुंछ (poonch) अपने प्राकृतिक सौन्दर्य और ऐतिहासिक महत्‍व के कारण दुनियाभर में जाना जाता है। यहां कई प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हैं। इन्हीं धार्मिक स्थलों में से एक नंगाली साहिब गुरुद्वारा (nangali sahib gurudwara) है। सिख समुदाय का यह पवित्र स्थल पुंछ (poonch) जिला मुख्यालय से सात किलोमीटर की दूरी पर है। यह पुंछ जिले का सबसे प्राचीन धार्मिक स्‍थल है। वर्तमान में नंगाली साहिब गुरुद्वारा परिसर में मुख्य भवन के अलावा एक गुरु का लंगर हॉल, रसोई घर और लगभग 70 अतिथि कमरे हैं। हर साल देश और दुनिया भर से अलग-अलग धर्मों से जुड़े श्रद्धालु बड़ी संख्या में नंगाली साहिब गुरुद्वारा पर आते हैं।

नंगाली साहिब गुरूद्वारा का इतिहास

सिख समुदाय के प्राचीन पवित्र स्थल नंगाली साहिब गुरुद्वारे का निर्माण 1803 में संत भाई फेरू सिंह के चौथे वशंज ठाकुर भाई मेला सिंह ने करवाया था। सिंह राजवंश के पहले राजा रणजीत सिंह साल 1814 में नंगाली साहिब गुरुद्वारे आए थे। इस दौरान वह गुरुद्वारे से बहुत प्रभावित हुए थे। इसके बाद साल 1823 में वापस यहां आए और उन्होंने गुरुद्वारे के आसपास चार गांवों की स्थापना भी की। भारत की आजादी के समय 1947 में कुछ पाकिस्तान समर्थित लोगों ने नंगाली साहिब गुरुद्वारे की मूल इमारत को जला दिया था। हालांकि बाद में मंहत बच्छितर सिंह की देखरेख में संगत के दान और प्रयासों की बदौलत गुरुद्वारे का पुनर्निर्माण किया गया।

nangali gurudwara poonch jammu

Source – The Tribune

धूमधाम से मनाई जाती है बैसाखी

नंगाली साहिब गुरुद्वारे में हर रविवार को विशेष पाठ पढ़ा जाता है। इस दौरान बड़ी संख्या में पुंछ के लोग शामिल होते हैं। हर साल बैसाखी की पूर्व संध्या पर गुरुद्वारा साहिब में विशाल समारोह आयोजित किया जाता है। खासतौर पर बैसाखी के दिन भर चलने वाले समारोह में विशेष रूप से यहां श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगता है। यहां बड़ी संख्या में दूसरे धर्म से जुड़े लोग भी पहुंचते हैं। यहां आने वाले श्रद्धालुओं को उनके धर्म, जाति और पंथ आदि पर विचार किए बिना रहने की सुविधा प्रदान की जाती है। नंगाली साहिब गुरुद्वारा जम्‍मू-कश्‍मीर के सिख समुदाय की आस्था का केंद्र है। गुरुद्वारे के आसपास का सुखद प्राकृतिक और शांत वातावरण भी श्रद्धालुओं को काफी पसंद आता है।

कैसे पहुंचें नंगाली साहिब गुरुद्वारा

पुंछ जिला मुख्यालय से महज सात किलोमीटर की दूरी पर होने के कारण यहां पहुंचना बहुत ही आसान है। पुंछ से नजदीकी रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डा लगभग 240 किलोमीटर दूर जम्मू में है। जम्मू रेल नेटवर्क के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से जुड़ा हुआ है। तीर्थयात्री जम्मू तक रेल सेवा का उपयोग कर सकते हैं और फिर सड़क मार्ग से पुंछ तक जा सकते हैं। जम्मू से पुंछ आने के लिए वाहनों की सुविधा उपलब्ध है।

Jammu से जुड़ी इन खबरों को भी पढ़ें

Web Title nangali sahib gurudwara of poonch in jammu kashmir

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!