नैनीताल की खुबसूरती को चार-चांद लगाती है यह झील, हर रोज आते हैं एक लाख से भी ज्यादा पर्यटक

by Content Editor

उत्तराखंड (uttarakhand) के कुमाऊं इलाके में नैनीताल अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए देश-दुनिया में जाना जाता है, जिस वजह से यह जगह साल के हर महीने पर्यटकों से भरी हुई नजर आती है। नैनीताल की खुबसूरती को चार-चांद लगाती नैनी झील (Nainital lake) हरी-भरी घाटियों से घिरी हुई है। यह झील शहर से तकरीबन ढाई किमी दूरी पर स्थित है। यह नैनीताल शहर में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है। पर्यटक यहां यैचिंग (पाल नौकायन), रोइंग, पैडलिंग (नौकायन) जैसी गतिविधियों का आनंद लेते देखे जा सकते हैं।

नैनीताल को ‘तीन संतों की झील’ या ‘त्रि-ऋषि-सरोवर’ के नाम से भी जाना जाता है। इस नाम को ‘श्री स्कन्द पुराण’ के ‘मानस खंड’ नामक अध्याय में उल्लेखित किया गया है। इस अध्याय से पता चलता है कि तीन संत जिनके नाम अत्री, पुलस्त्य और पुलाह थे, अपनी तीर्थ यात्रा के दौरान प्यास मिटाने के लिए पानी की खोज में नैनीताल में रुके थे, लेकिन कहीं भी पानी ना मिलने के बाद उन्होंने एक गड्ढा खोदा और मानसरोवर झील से लाए गए कुछ जल से इस गड्ढे को भर दिया, जिसके फलस्वरूप नैनी झील का निर्माण हुआ। किंवदंतियों के अनुसार, आंख के आकार की झील का निर्माण उस स्थान पर किया गया था, जहां देवी सती की बाईं आंख गिर गई थी, जब भगवान शिव उन्हें कैलाश पर्वत के लिए ले जा रहे थे।

Nainital lake uttarakhand

यह झील काफी लंबी है और इसका उत्तरी भाग ‘मल्ली ताल’ कहलाता है, जबकि दक्षिणी भाग ‘तल्ली ताल’ कहलाता है। यहां एक पुल है जहां गांधीजी की प्रतिमा और पोस्‍ट ऑफिस है। यह विश्‍व का एकमात्र पुल है, जहां पोस्‍ट ऑफिस है। इसके अलावा बस स्टेशन, टैक्सी स्टैंड, रेलवे आरक्षण काउंटर और शॉपिंग सेंटर भी पास ही स्थित हैं। यहां सीजन के दौरान हर रोज एक लाख से अधिक लोग पर्यटकों के रूप में भी आते हैं। झील के दोनों किनारों पर बहुत सी दुकानें और विक्रय केंद्र हैं, जहां बहुत भीड़भाड़ रहती है। झील के उत्तरी छोर पर नैना देवी मंदिर है। इसके अलावा नैनी झील के पास के कुछ प्रसिद्ध पर्यटन स्थल स्नो व्यू पॉइंट, इको गुफाएँ, नैना देवी मंदिर, हाई एल्टीट्यूड चिड़ियाघर, खुरपाताल, टिफिन टॉप, हनुमान गढ़ी, घोड़ाखाल, भोवाली आदि भी आकर्षण का केंद्र हैं।

यहां कैसे पहुंचें

सड़क मार्ग – नैनीताल सभी प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्गों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली, बरेली, देहरादून, हरिद्वार और कुमाऊं क्षेत्र के सभी प्रमुख शहरों के लिए यहां से नियमित बस सेवाएं हैं।

रेल मार्ग – नैनीताल से काठगोदाम 35 किलोमीटर की दूरी पर निकटतम रेलवे स्टेशन है।

वायु मार्ग – पंतनगर, नैनीताल से 70 किलोमीटर की दूरी पर निकटतम हवाई अड्डा है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title Nainital lake uttarakhand

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!