बर्फबारी से स्वर्ग जैसा खूबसूरत हुआ मनाली का नजारा, खिले सैलानियों के चेहरे

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश के मनाली और शिमला जिले के नारकंडा में सीजन की पहली बर्फबारी हुई है। बर्फबारी के कारण नारकंडा का तापमान शून्य डिग्री से नीचे पहुंच गया है। उधर कश्मीर घाटी के कई हिस्सों में भी बर्फबारी हुई है। बर्फबारी के कारण मौसम विभाग ने मैदानी इलाकों में भी सर्दी बढ़ने की संभावना जाहिर की है। कश्मीर में बर्फबारी के साथ-साथ बारिश भी हुई है। गुरुवार को शिमला जिले के नारकंडा, किन्नौर जिले की सांगला और कुल्लू जिले की सोलंग घाटी में ताजा बर्फबारी हुई। इसके आसपास के पहाड़ी इलाकों में मध्यम बर्फबारी हुई। दर्शनीय स्थल कल्पा में सात सेंटीमीटर बर्फबारी हुई।

पर्यटन नगरी मनाली में सात सेंटीमीटर बर्फबारी दर्ज की गई है। बर्फबारी के कारण मनाली का न्यूनतम तापमान माइनस 1.2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। बर्फबारी के चलते मनाली का नजारा स्वर्ग जैसा खूबसूरत हो गया है। पूरा मनाली बर्फ की सफ़ेद चादर से ढका हुआ नजर हुआ है। कारें और घर बर्फ की चादर में छिप गई हैं। बर्फबारी के कारण पर्यटक मनाली व आसपास के पहाड़ी इलाकों में पहुंचना शुरू हो गए हैं। पर्यटन से जुड़े व्यापारी भी बर्फबारी के चलते खुश नजर आ रहे हैं, वहीं पर्यटकों के चेहरे खिल गए हैं। मनाली बर्फबारी के कारण ऐसा लग रहा है, जैसे यहां हिमयुग लौट आया है।

मनाली घुमने आये पर्यटक मनाली के वातावरण का जमकर मजा ले रहे हैं। पर्यटकों के लिए नवंबर में बर्फबारी सपने से कम नहीं है। पर्यटकों का कहना है कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि मनाली में उन्हें ऐसी बर्फबारी देखने को मिलेगी। बता दें कि बर्फबारी के कारण रोहतांग दर्रे पर पहले ही वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है। इसके बंद होने से अगले पांच महीने तक लाहौल स्पीति का देश-दुनिया से रिश्ता कट गया है।

मौसम विभाग के निदेशक के अनुसार गुरुवार को लाहौल स्पीति के ऊंचाई वाले इलाकों, चंबा, कुल्लू व किन्नौर जिलों में बर्फबारी हुई। इनके अलावा धर्मशाला और पालमपुर में पहाड़ियों पर भी बर्फबारी हुई है। अन्य पहाड़ी गंतव्यों शिमला, कुफरी, धर्मशाला, नाहन, चंबा व मंडी में बारिश हुई है।

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!