अब दिखेगा केदारनाथ मंदिर का एक अलग नजारा, चांदी के द्वारों से होगा प्रवेश

by Content Editor

kedarnath dham- उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्र में स्थित बाबा केदारनाथ का धाम पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। बाबा केदार के भक्तों की संख्या लाखों में है। यहां आने वाले श्रद्धालु कभी निराश नहीं होते। बाबा केदार अपने भक्तों को मनवांछित वरदान देते हैं, तो वहीं भक्त भी बाबा के प्रति अपना प्रेम, अपनी श्रद्धा जाहिर करने के लिए उनका आभार प्रकट करते हैं। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक  प्रसिद्ध धाम केदारनाथ मंदिर में एक और परिवर्तन नजर आएगा। केदारनाथ मंदिर के प्रवेश द्वार अब चांदी के हो गए हैं। अब तक ये प्रवेश द्वार लकड़ी के थे और अब इन्हें बदलकर चांदी के प्रवेश द्वार लगा दिए गए हैं। kedarnath dham

पंजाब के जालंधर निवासी गगन भाष्कर ने केदारनाथ धाम में चांदी के दरवाजे भेंट किए हैं। मंदिर समिति द्वारा इन दरवाजों को मंदिर के दक्षिण द्वार पर लगा दिया गया है। भाष्कर द्वारा बीते वर्ष मंदिर समिति से आग्रह किया गया था कि वह केदारनाथ मंदिर के लिए दान करना चाहते हैं। उनके प्रस्ताव को समिति ने चर्चा के बाद अनुमति दी। इसके बाद उन्होंने अपने कारीगरों को धाम भेजा। केदारनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए अब इन्हीं चांदी के दरवाज़ों के बीच में से होकर जाना होगा।

kedarnath dham

पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारपुरी के पुनर्निर्माण करने का ऐलान किया था और प्रधानमंत्री खुद भी केदारपुरी पुनर्निर्माण प्रोजेक्ट की निगरानी करते हैं।  बता दें कि द्वार पर ऊं नम: शिवाय, जय केदार और रतनद्वार उकेरा गया है। इसके अलावा त्रिशूल, डमरू, नंदी और त्रिनेत्र भी बनाए गए हैं। मंदिर का पूर्वी और पश्चिमी द्वार लकड़ी का ही है। उन्होंने ब्रह्मा टी सागोन की लकड़ी पर करीब 52 किलोग्राम चांदी से बने दरवाजे जोड़े।

मंदिर समिति के अनुसार समय-समय पर भक्त मंदिर समिति को इस तरह के दान देते रहे हैं। गर्भ गृह के दरवाजे और अंदर की दीवारों पर मढ़ी गई चांदी भी श्रद्धालुओं ने दान दी थी। दो वर्ष पूर्व दिल्ली के एक व्यापारी द्वारा मंदिर के गर्भगृह की दीवारों पर चांदी लगाई जा चुकी है।

भारी बर्फबारी के चलते आधिकारिक तौर पर बंद हुआ मनाली-लेह मार्ग, हटाई अस्थाई चौकी
अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग प्रतियोगिताओं के लिए औली तैयार, जल्द किया जाएगा सर्वे
कश्मीर में​ फिर से घूम सकेंगे पर्यटक, जून तक आए थे 3.70 लाख पर्यटक

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!