कश्मीर में​ फिर से घूम सकेंगे पर्यटक, जून तक आए थे 3.70 लाख पर्यटक

by Content Editor

jammu kashmir tourism- कश्मीर के हालात में तेजी से हो रहे सुधार को देखते हुए राज्य सरकार ने बीती 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाने से पहले पर्यटकों को कश्मीर घाटी छोड़ने की जारी की गई एडवाइजरी वापस ले ली है। नई व्यवस्था प्रभावी हो गई है। राज्यपाल मलिक ने बीते सोमवार को सलाहकारों और मुख्य सचिव के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक की। बैठक में योजना, आवास और शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिवों ने हिस्सा लिया। 5 अगस्त से प्रत्येक दिन राज्यपाल दैनिक आधार पर 2 घंटे के लिए आम तौर पर 6 से 8 बजे तक सुरक्षा समीक्षा बैठकें करते रहे हैं। इस बार की बैठक में राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने 2 महीने से अधिक पुरानी एडवाइजरी को हटाने का निर्देश दिया है।

jammu kashmir tourism

राज्य प्रशासन ने 2 अगस्त को एक सुरक्षा सलाह जारी की थी। इसमें घाटी में आतंकी खतरे का हवाला देते हुए अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जल्द से जल्द कश्मीर छोड़ने के लिए कहा था। यह जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के ठीक पहले जारी की गई थी। वर्तमान में कश्मीर में स्थिति सामान्य हो चुकी है। साथ ही सार्वजनिक वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो गई है। टीआरसी में 25 अतिरिक्त काउंटर खोले गए हैं।

प्रत्येक जिले में लोगों की सुविधा के लिए 25 इंटरनेट कियोस्क स्थापित किए गए हैं। सरकारी कार्यालयों में उपस्थिति पर नजर रखी जा रही है। सभी एआरओ को मोबाइल फोन उपलब्ध कराए गए हैं, ताकि पंचायत चुनाव प्रक्रिया में किसी प्रकार का व्यवधान न हो। जेल में बंद नेताओं से मिलने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को अनुमति दी गई है। बैठक में सलाहकारों के अलावा मुख्य सचिव भी उपस्थित रहे। इसके अलावा राज्यपाल को सेब के व्यापार में हो रही प्रगति के बारे में भी बताया गया। सेब की कीमतों में कुछ बदलाव भी किए जा रहे हैं, जिसकी घोषणा जल्द ही कर दी जाएगी।

jammu kashmir tourism

पर्यटकों की संख्या में होगा इजाफा

राज्य सरकार के इस फैसले से पर्यटकों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी, जिससे राज्य की अर्थव्यवस्था को बल मिलेगा। पिछले महीनों में घाटी में जिस तरह से हालात देखने को मिले, उसे देखते हुए पर्यटकों ने कश्मीर में आना लगभग बंद कर दिया है। हालांकि पिछले महीने कुछ विदेशी पर्यटक डल झील की सैर पर आए थे। आर्टिकल 370 के हटने के बाद से विदेशी और घरेलू पर्यटकों द्धारा लद्दाख को ज्यादा पसंद किया जा रहा है।

कश्मीर घाटी में पर्यटक
साल         पर्यटकों की संख्या
2012       13.08 लाख
2013        11.71 लाख
2014        11.67 लाख
2015         9.27 लाख
2016        12.12 लाख
2017         11 लाख
2018        8.5 लाख
2019        3.70 लाख (जून तक)

कश्मीर की खूबसूरती को बढ़ाता है यह गार्डन, जाना जाता है “प्लेसेस ऑफ़ द प्रिंसेस” के नाम से
अद्भुत सौंदर्य ही नहीं, अवंतिपुर के खंडहर मंदिरों में भी बसती है कश्मीर की खूबसूरती
बेजोड़ प्राकृतिक सुंदरता के लिए दुनियाभर में प्रसिद्द है कश्मीर की मानसबल झील

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!