एक और रोमांच के लिए हो जाइये तैयार, माना पास पर दुनिया की सबसे ऊंची मोटर रोड बनकर तैयार

by Content Editor

लद्दाख, रोहतांग पास और स्पिति (ladakh rohtang spiti) की सड़कों पर रोमांचक सफर का आनंद लेने वालों के लिए खुशखबरी है। उत्तराखंड (uttarakhand) में बदरीनाथ धाम (badrinath dham) से नजदीक माना पास (mana pass) पर दुनिया की सबसे ऊंची मोटर रोड (highest motorable road) बनकर तैयार हो चुकी है। चीन की सीमा से सटी होने के कारण सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इस रोड पर जाने के लिए पहले परमिशन लेनी पड़ती है। बदरीनाथ धाम के आगे माना गांव चीन सीमा पर आखिरी गांव है। चमोली-गढ़वाल जिले में 18,192 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस सड़क से चीन की हर चाल पर निगरानी रखी जा सकती है।

भारत चीन बॉर्डर पर माना पास को जीरो पॉइंट भी कहा जाता है, इसलिए यहां पर आम लोगों का जाना प्रतिबंधित है। यहां जाने के लिए पहले नागरिकों को सरकार और सेना दोनों से स्पेशल परमिशन लेनी पड़ती है। अगर आप इसे हासिल नहीं कर पाते हैं, तो आपको माणा गांव से ही वापस लौटना पड़ता है। माना गांव में आखिरी पोस्ट ऑफिस, आखिरी टी-स्टॉल, आखिरी स्कूल, आखिरी पुलिस चेक पोस्ट है। सरस्वती नदी का उद्गम स्थल देव ताल भी यहीं पर मौजूद है।highest road mana pass

हेलीकॉप्टर की मदद से बनाया गया इस सड़क को

माणा पास रोड दुनिया की इकलौती सबसे ऊंची मोटरेबल सड़क है, जिसे ऊपर से नीचे की तरफ बनाया गया है। जबकि पहाड़ों पर सड़क का निर्माण नीचे से ऊपर की ओर होता है। इस काम के लिए हेलीकॉप्टर से भारी रॉक कटिंग मशीनें और अन्य सामान को दर्रे पर पहुंचाया गया। इसके बाद वहां से सड़क बनाते हुए नीचे 64 किमी दूर माणा गांव तक पहुंचाया गया। इस सड़क को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने बनाया है।

माणा पास समुद्रतल से लगभग 5,545 मीटर तथा 18,192 फीट की ऊंचाई पर है। यह उत्तराखंड के प्रसिद्ध बद्रीनाथ मंदिर के निकट है। यहां बाईकर्स आना बेहद पसंद करते हैं। बेहद सुंदर एवं शांत वातावरण होने के कारण पर्यटकों के साथ ही धार्मिक स्थल होने से यह जगह श्रद्धालुओं की भी  लिए काफी लोकप्रिय है। माणा से ही सतोपंत ताल और

Uttarakhand Badrinath के आसपास की इन प्रसिद्ध जगहों के बारे में भी पढ़ें

Web Title highest motorable road construction completed on mana pass near badrinath in uttarakhand

(Tourism News from The Himalayan Diary)

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!