Triund में प्रकृति से छेड़छाड़ पर सख्त हुआ हाईकोर्ट, दिए कार्रवाई के आदेश

by Ravinder Singh

अपनी खूबसूरती के दुनियाभर में प्रसिद्द मशहूर पर्यटन स्थल त्रियुंड में प्रकृति के साथ हो रही छेड़छाड़ को लेकर हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। हिमाचल में धर्मशाला में स्थित त्रियुंड में वन भूमि पर हो रहे अवैध कब्जों को लेकर उच्च न्यायालय ने कांगड़ा के उपायुक्त को कड़े आदेश दिए हैं। कोर्ट ने उपायुक्त से कहा की वह त्रियुंड में वन भूमि पर किए गए कब्जों का निरीक्षण कर स्टेटस रिपोर्ट हाईकोर्ट के सामने पेश करे। उपायुक्त अगले महीने की 24 तारीख को अपनी कार्रवाई की रिपोर्ट कोर्ट के सामने पेश करेंगे। जानकारी के लिए बता दें कि त्रियुंड में 6 गेस्ट हाउस, करीब 25 दुकानें और कई सारे टेंट वन भूमि पर अवैध रूप से लगाए गए हैं।


उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में उपायुक्त से वन विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई करने के लिए कहा है। न्यायालय ने कहा है कि त्रियुंड में अवैध कब्जों को बढ़ावा देने के लिए जो भी अधिकारी जिम्मेदार है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। बता दें कि नरेश शर्मा की याचिका पर हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश धर्म चंद चौधरी और जस्टिस विवेक ठाकुर की खंडपीठ ने सुनवाई करने के बाद जिला प्रशासन कांगड़ा ने यह आदेश दिया है।


याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में इस क्षेत्र से जुड़े कुछ फोटोग्राफ भी लगाए थे। फोटोग्राफ का अवलोकन करने के बाद न्यायालय ने लापरवाह कर्मियों के कार्यों को लेकर अफ़सोस जाहिर किया और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दिए। इस मामले की अगली सुनवाई 24 जून को होगी। गौरतलब है कि हिमाचल के धर्मशाला में स्थित त्रियुंड एक प्रसिद्द पर्यटन स्थल है। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती को निहारने के लिए हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक यहां ट्रेकिंग के लिए पहुंचते हैं।

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!