हेमकुंड साहिब में जमी 15 से 20 फीट बर्फ, पूरी तरह से ढका गुरूद्धारा,1 जून तक ​खुलेंगे कपाट

by Content Editor

समुद्रतल से 15225 फीट की ऊंचाई पर स्थित हिमालय के पांचवें धाम श्री हेमकुंड साहिब हैं। हेमकुंड साहिब (hemkund sahib ) को सिखों के सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है। यहां पर सिखों के दसवें और अंतिम गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह ने अपने पिछले जीवन में ध्यान साधना की थी और वर्तमान जीवन लिया था। जिस वजह से इस जगह को पवित्र, विस्मय और श्रद्धा का स्थान माना जाता है। यहां पर स्थित झील और इसके आसपास के क्षेत्र को लोग एक नाम “लोकपाल” से जानते हैं। वैसे तो धाम के कपाट 25 मई को खोले जाते हैं, लेकिन इस साल हेमकुंड साहिब में भारी बर्फबारी  (covered with snow) के चलते इसमें देरी आ रही है। जिस वजह से कपाट 1 जून को खोले जाने हैं।

 इस साल हुई जबरदस्त बर्फबारी के चलते धाम में अभी भी 20 फीट के करीब बर्फ जमी हुई है। इसके चलते गुरुद्वारा साहिब और लक्ष्मण मंदिर समेत हेमकुंड सरोवर बर्फ से ढके हुए हैं। पूरा हेमकुंड गुरुद्वारा बर्फ से ढका है। पवित्र हेमकुंड पैदल पथ पर घांघरिया में तक अभी 5 फिट बर्फ है। गोविन्दघाट गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के मुख्य प्रबंधक के अनुसार पवित्र हेमकुंड साहिब के कपाट इस बार 1 जून को खुलेंगे।

hemkund sahib covered with snow

Source- ANI

अगर हेमकुंड साहिब के इतिहास की बात की जाए, तो सिख इतिहासकार-कवि भाई संतोख सिंह ने इस जगह का विस्तृत वर्णन दुष्ट दमन की कहानी में अपनी कल्पना में किया था। उन्होंने इसमें गुरु का अर्थ शाब्दिक शब्द ‘बुराई के विजेता’ के लिए चुना है। हेमकुंड साहिब का गुरु गोबिंद सिंह की आत्मकथा में उल्लेख किया गया था। मगर इस जगह का दो से अधिक सदियों से गुमनामी में बने रहने का इतिहास है। इस स्थान के मौजूद होने का संकेत गुरु ने दिया था। वर्तमान में गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब के अलावा हरिद्वार, ऋषिकेश, श्रीनगर, जोशीमठ, गोबिंद घाट और गोबिंद धाम में गुरुद्वारों में सभी तीर्थयात्रियों के लिए भोजन और आवास उपलब्ध कराने का प्रबंधन इसी कमेटी द्वारा किया जाता है।

इस समय धाम पूरी तरह बर्फ के आगोश में है, जबकि हेमकुंड-घांघरिया पैदल मार्ग पर अटलाकोटी समेत कुछ अन्य स्थानों पर 40 फीट ऊंचे हिमखंड बने हुए हैं। इससे सेना की इंजीनियरिंग कोर को पैदल मार्ग खोलने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। गुरुद्वारा प्रबंधक सरदार सेवा सिंह के अनुसार गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के सेवादारों ने घांघरिया में अभी से राशन पहुंचाना शुरू कर दिया है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title hemkund sahib covered with snow

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!