केदारनाथ धाम में आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बनाए जाएंगे चार नए ध्यान केंद्र

by admin

उत्तराखंड (uttarakhand) के चारधामों (chardham) में प्रमुख केदारनाथ धाम (kedarnath) में आध्यात्मिक पर्यटन (spiritual tourism) को बढ़ावा देने के लिए चार नए ध्यान केंद्र (meditation centers) विकसित करने का निर्णय लिया गया है। इन दिनों केदारनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्य जोर शोर से किया जा रहा है। जिसका निरीक्षण करने के लिए केंद्रीय संस्कृति सचिव केदारनाथ धाम में पहुंचे। यहां उन्होंने आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केदारनाथ में चार पड़ावों में ध्यान केंद्र विकसित करने के लिए कहा।

केंद्रीय संस्कृति सचिव ने निरीक्षण के दौरान नेपाल भवन, शंकराचार्य की समाधि और केदारनाथ लिंचोली मार्ग का भी निरीक्षण किया। केदारनाथ धाम में चार ध्यान केंद्र विकसित करने के साथ ही नेपाल भवन को संग्रहालय के रूप में विकसित किया जाएगा। इस दौरान उन्हें केदारनाथ धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्य के बारे में भी बताया गया। उन्होंने शंकराचार्य समाधि स्थल पर हो रहे काम को जल्द ही पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

kedarnath meditation cave booking
निरीक्षण के दौरान केंद्रीय सचिव ने कहा कि नेपाल भवन को संग्रहालय के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने स्थानीय घरों में भी निरीक्षण किया, जहां अस्थाई तरीके से संग्रहालय को संचालित किया जा सके। आखिर में लिंचोली मार्ग का निरीक्षण करते हुए उन्होंने कहा कि आध्यात्मिक पर्यटक को बढ़ावा देने के लिए इस मार्ग पर चार स्थानों पर ध्यान केंद्र बनाए जाएं। जिससे अधिक संख्या में यहां आने वाले तीर्थ यात्री इसका लाभ उठा सकेंगे। इससे आध्यात्म को बढ़ावा मिलेगा।

बताते चलें कि चारधाम यात्रा को सभी राज्यों के लिए तीर्थ यात्रियों के लिए खोल दिया गया है। अब तक केदारनाथ धाम में 30 हजार से अधिक लोग दर्शन कर चुके हैं। यहां आने वाले यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए ही केदारनाथ धाम का पुनर्निर्माण कार्य किया जा रहा है। यहां आने वाले तीर्थ यात्रियों को आध्यात्म की तरफ प्रोत्साहित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

Uttarakhand में इन जगहों के बारे में भी जानें

Web Title four meditation centers will be developed in kedarnath dham in uttarakhand

(Religious News from The Himalayan Diary)

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!