केंद्रीय बजट से हिमाचल के पर्यटन को लगेंगे नए पंख, अनछुए पर्यटन स्थलों का होगा विकास

by Ravinder Singh

हिमाचल प्रदेश (himachal pradesh) सरकार पर्यटकों को राज्य की ओर आकर्षित करने के लिए अनछुए पर्यटन स्थलों (untouched tourist destinations) का विकास करने और नए पर्यटन स्थल तैयार करने की नीति पर काम कर रही है। इसके लिए सरकार ने नई राहें नई मंजिल योजना की शुरुआत की है। नए पर्यटन स्थल तैयार होने से पर्यटकों का रुझान हिमाचल प्रदेश की तरफ बढ़ेगा। इससे पर्यटन से जुड़े लोगों को रोजगार भी मिलेगा। हिमाचल प्रदेश सरकार की इस महत्वकांशी योजना को केंद्रीय बजट (central budget) से मजबूती मिलेगी। दरअसल केंद्र सरकार (central government) ने राज्यों से कुछ चिन्हित स्थलों के लिए योजना तैयार करने की अपील की है।

राज्यों को विशिष्ट अनुदान

बता दें कि आम बजट 2020-21 में पर्यटन क्षेत्र के लिए 2499.83 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। वहीं अंतरराष्ट्रीय और घरेलू पर्यटकों को आकर्षित करने पर ध्यान देने के साथ-साथ बजट में आठ नए संग्रहालय खोलने का भी प्रस्ताव है। बजट पेश करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि पर्यटन में वृद्धि का विकास और रोजगार से सीधा संबंध है। इसमें राज्यों को एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। नए पर्यटन स्थलों का विकास करने के लिए राज्यों को विशिष्ट अनुदान भी उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए केंद्र सरकार ने साल 2020-21 के लिए राज्यों से वित्तीय योजना भी मांगी है।

central budget tourist destinations

Source – BloombergQuint

पर्यटन का होगा विस्तार

ऐसे में इस बजट से प्रदेश सरकार द्वारा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे कार्यों को बल मिलेगा। बजट से प्रदेश में पर्यटन का और अधिक विस्तार होने की उम्मीद जगी है। बता दें कि सरकार साहसिक पर्यटन को बढ़ावा के लिए पैराग्लाइडिंग के लिए जिला कांगड़ा के बीड़ बिलिंग में विकास पर जोर दे रही है। इसके अलावा प्रदेश सरकार द्वारा ईको पर्यटन के विकास के लिए मंडी जिले के जंजैहली, स्कीइंग के लिए शिमला के चांशल, जल क्रीड़ा के लिए पौंग जलाशय, लारजी जलाशय और तत्तापानी जलाशय का चयन किया गया है।

इन लोकप्रिय खबरों को भी पढ़ें 

Web Title central budget will develop tourist destinations of himachal pradesh

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!