उत्तराखंड बना 'मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट',​ सबको लुभाती है यहां की खूबसूरती

by Content Editor

 Best film friendly state award uttarakhand- यह किसी से छुपा नहीं है कि उत्तराखंड पर्यटकों के लिए किसी जन्नत से कम नहीं है। अब इसकी खूबसूरती में चार-चांद लगाने का काम भारतीय फिल्में कर रही हैं, जिस वजह से फिल्ममेकर्स यहां शूटिंग करना पसंद करते हैं। हाल ही में 66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा उत्तराखंड के लिए खुशखबरी लेकर आई है। विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर उत्तराखंड को ‘मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट’ अवॉर्ड से नवाजा गया है। उपराष्ट्रपति एम वैंकया नायडु ने यह पुरस्कार उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज को दिया है। इस दौरान केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल भी मौजूद थे। उत्तराखंड की मनमोहक वादियों में अब तक कई बड़े बैनर की फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है।  Best film friendly state award uttarakhand

 Best film friendly state award uttarakhand

शूटिंग को कोई फीस नहीं

उत्तराखंड सरकार द्वारा फिल्म निर्माताओं की सुविधाओं के दृष्टिगत आकर्षक फिल्म पॉलिसी लागू की गई है। प्रदेश में आयोजित इनवेस्टर्स समिट 2018 में भी देश-विदेश के फिल्म निर्माताओं द्वारा सुझाव दिये गये थे। इसके बाद प्रदेश सरकार द्वारा फिल्म पॉलिसी 2019 लागू की गई। मुंबई में आयोजित कार्यक्रम में फिल्म जगत की बड़ी हस्तियों से संवाद कर उन्हें उत्तराखंड में फिल्म शूटिंग के लिए न्यौता दिया गया था। प्रदेश में सिंगल विंडो शूटिंग की अनुमति प्रदान किये जाने की व्यवस्था की गई है। अब राज्य में शूटिंग के लिए कोई फीस नहीं ली जा रही है। नई फिल्म पॉलिसी में 1.5 करोड़ का अनुदान दिए जाने की व्यवस्था है। साथ ही शूटिंग अवधि में पुलिस सिक्योरिटी भी फ्री ऑफ कॉस्ट उपलब्ध कराया जाना शामिल है। अकेले स्टूडेंट ऑफ द ईयर-2 फिल्म की शूटिंग पर फिल्म निर्माता ने राज्य में 13 करोड़ रुपये खर्च किए।

साल 2018 में मिला फिल्म फ्रेंडली एनवायरनमेंट अवॉर्ड

पिछली बार भी उत्तराखंड को भारत सरकार के प्रसारण मंत्रालय द्वारा “दी मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट अवार्ड” के अंतर्गत राज्य को “स्पेशल मेंशन सर्टिफिकेट फॉर फिल्म फ्रेंडली एनवायरनमेंट” अवार्ड के लिए चयनित किया गया था। उत्तराखण्ड राज्य को यह पुरस्कार राज्य में फिल्म शूटिंगों के लिए निर्माता एवं निर्देशकों के लिए एक अनुकूल वातावरण तैयार करने के प्रयासों के लिए दिया गया था।

देहरादून-हरिद्वार-ऋषिकेश में जाम से राहत दिलाएगा ‘रैपिड ट्रांजिट सिस्टम’
युद्ध के मैदान से पर्यटन का क्षेत्र बना कारगिल, पर्यटकों की संख्या पहुंची लाखों में
कश्मीर की खूबसूरती को बढ़ाता है यह गार्डन, जाना जाता है “प्लेसेस ऑफ़ द प्रिंसेस” के नाम से

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!