बर्फबारी के चलते हिमाचल प्रदेश सरकार ने पर्यटकों को दी पहाड़ी इलाकों में न जाने की सलाह

by Ravinder Singh

पिछले कुछ दिनों से हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में लगातार बर्फबारी हो रही है। वहीँ प्रदेश के मैदानी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। बर्फबारी के चलते हिमाचल प्रदेश ने पर्यटकों और स्थानीय नागरिकों को प्रदेश के पर्वतीय इलाकों की यात्रा न करने की सलाह दी है। हिमाचल प्रदेश के मुख्य सचिव बी।के। अग्रवाल ने पर्यटकों और स्थानीय नागरिकों से कहा कि पहाड़ी इलाकों में हो रही अप्रत्याशित बर्फबारी को ध्यान में रखते हुए ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ना जाएं। अतिरिक्त मुख्यसचिव मनीषा नंदा ने बताया कि चंबा जिले में भारी बर्फबारी के कारण तीन लोग फंस गए थे, जिन्हें भारतीय वायुसेना की मदद से बचाया गया हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश में सर्दियों ने अपनी दस्तक दे दी है। इस मौसम में लाहौल-स्पीति, किन्नौर और कुल्लू की पहाड़ियों पर अप्रत्याशित बर्फबारी की संभावना हमेशा बनी हुई रहती है, साथ ही हिमस्खलन का खतरा भी होता है। ऐसे में किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचने के लिए सरकार की तरफ से पर्यटकों व स्थानीय लोगों को ऊंचाई वाले क्षेत्रों का रुख न करने की सलाह दी है। इस बीच अतिरिक्त मुख्य सचिव लोक निर्माण, राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन ने सोमवार को बताया कि भारी बर्फबारी के कारण चम्बा जिले के होली क्षेत्र फंसे तीन युवकों को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर की मदद से बचा लिया गया हैं।

पिछले कुछ दिनों से जहां पहाड़ी इलाकों में लगातार बर्फबारी हो रही है, वहीँ प्रदेश के मैदानी इलाकों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। अचानक मौसम में आए बदलाव के कारण तापमान में तेजी से गिरावट आई है। बारिश और बर्फबारी के बाद शीतलहर के चलते लाहौल-स्पीति में पारा शून्य डिग्री से नीचे लुढ़क गया है। तापमान में गिरावट का अंदाजा आप इस बात से भी लगा सकते है कि पट्टन वैली के पास बहने वाली चंद्रभागा नदी जमने लगी है। इसके अलावा पिन वैली के मुहाने पर स्थित पवित्र मानतलाई झील का पानी जमने लगा है।

You may also like

Leave a Comment

error: Content is protected !!