पहाड़ियों के बीच स्थित पिथौरागढ़ का बेहद खूबसूरत हिल स्टेशन है अस्कोट

by Ravinder Singh

उत्तराखंड को भारत के सबसे खुबसूरत प्रदेशों में से एक माना जाता है। यहां पूरे साल देशी-विदेशी पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। यहां पर्यटन स्थलों की भरमार है। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती, हरियाली, पर्वत, झीलें और कलकल करती नदियां उत्तराखंड को पर्यटन के लिहाज से अद्वितीय बनाती हैं। यहां एक से बढ़कर एक कई खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं। आज हम आपको उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बसे ऐसे ही एक पर्यटन स्थल अस्कोट के बारे में बताने जा रहे हैं। अस्कोट उत्तराखंड की वादियों में बसा एक छोटा सा हिल स्टेशन है। यह एक बेहद ही खूबसूरत जगह है। हिमालय पर बसा हुआ यह नगर अस्कोट कस्तूरी मृग अभयारण्य के लिए भी देश-विदेश में प्रसिद्ध है।

धारचूला से लगभग 40 किलोमीटर दूर स्थित अस्कोट ट्रेकिंग लवर्स के लिए एक आदर्श स्थल है। सर्दियों में यह लोकेशन और भी ज्यादा खूबसूरत लगती है। ठंड के मौसम में असकोट की खूबसूरती के बीच ट्रेकिंग करना पर्यटकों को खासा पसंद आता है। इस जगह की खास बात यह है कि प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर और खूबसूरत वादियों के बीच बसा यह हिल स्टेशन भीड़-भाड़ और कोलाहल से काफी दूर है। शहर की भागदौड़ से दूर यहां आकर पर्यटक खुद को प्रकृति के काफी करीब महसूस करते हैं। देखने पर अस्कोट पूरी तरह से प्रकृति की गोद से घिरा नजर आता है। यह शहर हिमालय की पहाड़ियों के बिल्कुल समीप बसा हुआ है।

प्राकृतिक खूबसूरती के अलावा अस्कोट अपने कस्तूरी मृगों के लिए प्रसिद्ध है। इस वजह से ही इन हिरणों की सुरक्षा के लिए यहां असकोट कस्तूरी मृग अभ्यारण का निर्माण किया गया है। अभ्यारण्य के ठीक सामने गरखा की उपजाऊ ढलाने हैं, जबकि इसके बायीं ओर नेपाल की पहाड़ियां और काली नदी है। यहां पर पाइंस, क्विरकस और पहाड़ी फलों के पेड़ पर्यटकों को काफी आकर्षित करते हैं। अस्कोट को खनिज संपदा से भी भरपूर माना जाता है। कहा जाता है कि अस्कोट की पहाड़ी के नीचे कीमती धातुओं का खजाना छिपा हुआ है। अस्कोट के बड़ी गांव क्षेत्र में सर्वे के अनुसार सोना, तांबा, चांदी, लेड, शीशा, जस्ता जैसी एक लाख पैंसठ हजार मैट्रिक टन धातु हैं।

कैसे पहुंचें अस्कोट

अस्कोट से सबसे नजदीकी हवाई अड्डा करीब 265 किलोमीटर दूर पंतनगर में है। यहां से अस्कोट जाने के लिए टैक्सी और बस के सुविधा मिलती है। अस्कोट से निकटतम रेलवे स्टेशन लगभग 238 किलोमीटर दूर काठगोदाम में है। काठगोदाम रेलवे स्टेशन भारत के कई प्रमुख शहरों जैसे दिल्ली, लखनऊ और हावड़ा से सीधे जुड़ा हुआ है। अस्कोट से नजदीकी प्रमुख शहर 40 किलोमीटर दूर धारचूला और 50 किलोमीटर दूर पिथौरागढ़ है। दोनों ही जगहों से वाहनों की मदद से आसानी से अस्कोट आया जा सकता है।

You may also like

Leave a Comment